देहरादून। उर्जा कर्मचारियों की ओर से बड़ी खबर आ रही है। खबर है कि हरक सिंह रावत से वार्ता के बाद उर्जा कर्मचारी संघ के अधिकारी मान गए हैं और उन्होंने हड़ताल खत्म करने का ऐलान किया है। लेकिन संघ के नेताओं का हड़ताल वापस लेने के फैसले का बिजली कर्मचारी पुरजोर विरोध कर रहे हैं। हड़ताली कर्मचारी मांग माने जाने तक हड़ताल अड़े हुए हैं।

कर्मचारी संघ अपने कर्मचारियों को हड़ताल वापस लेने के लिए मनाने की कोशिश में लगे हुए हैं लेकिन हड़ताली कर्मचारी अपने नेता की बात सुनने को राजी नहीं है।

थोड़ी देर पहले ही ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत की ऊर्जा विभाग के कर्मचारी संघों के अधिकारियों से वार्ता की। वार्ता में हरक सिंह ने 1 महीने का समय मांगा। मंत्री हरक सिंह रावत ने कर्मचारियों को आश्वस्त किया कि उनकी वाजीब मांगों को माना लिया जाएगा।

हरक सिंह रावत के आश्वासन के बाद संघ हड़ताल खत्म करने के लिए मान गए हैं। लेकिन संघ के नेताओं को अपने ही कर्मचारियों का विरोध का सामना करना पड़ रहा है। कर्मचारियों को महज आश्वासन पर मना पाना आसान नहीं होगा।

गौरतलब है कि 14 सूत्रीय मांग को लेकर आज रात 12:00 बजे से ही ऊर्जा कर्मचारी हड़ताल पर हैं। जिससे कई पावर प्लांट में उत्पादन ठप होने की खबर है वहीं कई क्षेत्रों में बिजली गुल होने की भी खबर सामने नहीं आ रही थी।

सरकार के हाथ पांव फूले हुए थे क्योंकि बिजली अत्यावश्यक सेवा में आता है और कर्मचारियों के हड़ताल के बाद सरकार के लिए बाध बिजली मुहैया करा पाना सरकार के लिए चिंता का सबब बन हुआ था।

Uttarakhand Goverment

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here