Uttarakhand Goverment

✍️अंजली कुमारी

देश में कोरोना संक्रमण के साथ-साथ अब ब्लैक फंगस के भी मामले सामने सामने आने लगा है। यह खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ब्लैक फंगस संक्रमण के मामले में कई सारे राज्यों से सामने आए हैं। बलैक फंगस का शिकार हुए ज्यादातर लोगों में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली और मधुमेह जैसी समस्या देखने को मिल रही है।

देश अलग-अलग हिस्से में संक्रमण मिलने के बाद रायपुर, जोधपुर, पटना, भुवनेश्वर, दिल्ली और भोपाल सहित कई जगहों पर बेहतर इलाज के लिए एम्स ने प्रभावी और उच्च गुणवत्ता वाला इलाज उपलब्ध करा रहा है। कई राज्यों में अभी इसके इलाज को लेकर उतनी तैयारी देखने को नहीं मिली और जो मरीजों की चिंता बढ़ाने वाला है।

अकेले महाराष्ट्र में ब्लैक फंगस 1500 मामले सामने आए है। देशभर के मैक्स अस्पतालों में इसके 50 मामले सामने आए हैं। जबकि दूसरे अस्पतालों को जोड़ दिया जाय तो अभी तक 1800 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं।

इस बाबत कॉन्फेडरेशन आँफ आल इंडिया ट्रेडर्स ने भी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होनें ब्लैक फंगस कि दवा कि कालाबाजारी को लेकर चिंता जाहीर की है। फेडरेशन ने सरकार से आग्रह किया की इन दवाई के आपूर्ति का जिम्मा केंद्र अपने हाथ में ले तथा दवा , इंजेक्शनों कि आपूर्ति सीधे अस्पतालों में करायें।

चिट्ठी में सरकार से गंभीरता से इस बीमारी की लड़ाई का अनुरोध किया गया है ताकि इसके प्रसार को जल्दी खत्म किया जाए।

Uttarakhand Goverment

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here