Uttarakhand Goverment

मानव प्रवृत्ति और स्वभाव होता है कि वो मुफ़्त के ऑफर पर टूट पड़ता है। जब भी मोबाइल पर कोई ऐसा लिंक आता है। जिसमें यह कहा जाता है कि आपको फ्री में 2GB डाटा मिल रहा है या फिर इस लिंक को क्लिक करके आप इनाम प्राप्त कर सकते हैं तो अक्सर लोग लिंक पर क्लिक कर देते हैं। उसके अंदर चले जाते हैं फिर वहां पर ऑप्शन आता है कि आप 10 लोगों को या 12 लोगों को इस लिंक को सेंड कीजिए। उसके बाद आपको ही आपको गैरेण्टेड इनाम मिलेगा। लेकिन जब 10 ग्रुप में या फिर 10 लोगों को लिंक भेज देते हैं तो आप पाते हैं कि वहाँ इनाम का कोई ऑप्शन नहीं आता है। फिर आप खुद को ठगा महसूस करते हैं।

सवाल उठता है कि आखिर ये कौन लोग होते हैं जो लिंक डालते हैं। उस पर क्लिक करने के लिए प्रेरित करते हैं इससे उन लोगों को क्या फायदा होता है ?

तो इसे समझना आपके लिए बेहद जरूरी है। जब भी आपके पास इस तरह की कोई लिंक आए, तो आप समझ लीजिए कि आप किसी हैकर या साइबर जासूस के चंगुल में फंस रहे हैं। क्योंकि इस लिंक के द्वारा आप को मुफ्त कुछ भी नहीं मिलने जा रहा है।

जब सरकारें कुछ मुक्त नहीं देती। जब घर के अपने किसी को कुछ मुफ्त कुछ नहीं देता, तो कोई भी कंपनी या कोई भी संस्था आपको कुछ भी मुफ्त क्यों देगा? ज़रा सोचिए !

इस तरह के लिंक पर क्लिक करते ही, वह (हैकर या साइबर चोर) आपके मोबाइल फोन में पहुंच जाता है। मोबाइल फोन में जाकर वह आपके फोटो, आपके कांटेक्ट नंबर, आपके मैसेज और यहां तक कि आपकी आवाज को भी रिकॉर्ड कर सकता है। आपका डाटा चुरा रहा होता है या आपके फोटो को अपने पास चुरा रहा होता है या आप की आवाज को सुन रहा होता है। इस तरह से आप एक बड़ी मुसीबत में कभी भी फंस सकते हैं

भारत में साइबर लिटरेसी की कमी की वजह से इस तरह की घटना ज्यादा होती है। हमारे हाथ में मोबाइल तो है लेकिन हमने स्मार्ट व सेवर लिटरेट नहीं हैं। यही वजह है कि इंटरनेट के द्वारा साइबर ठगी के रोज सैकड़ों मामले सामने आ रहे हैं।

याद रखिए कि मुफ्त नाम की चीज इस दुनिया में नहीं है। दुनिया बहुत ही भौतिकवादी है, कोई आपको मुफ्त में एक रुपए भी मुफ्त में नहीं देगा। इसीलिए इस तरह के लिंक पर क्लिक ना कीजिए और ना ही इसको शेयर करें। ऐसा करने से आप बड़ी मुसीबत में फंस जाएंगे आपके फोटो को का गलत उपयोग हो सकता है। आपके कांटेक्ट नंबर चुरा लिए जाएंगे। आप किनसे बात कर रहे हैं और क्या बात कर रहे हैं। इसे रिकॉर्ड कर लिया जाएगा। आपको कोई ब्लैकमेल कर सकता है।

इसलिए सावधानी जरूरी है। अगर आप स्मार्टफोन चलाते हैं तो आपको साइबर लिटरेट भी बनना पड़ेगा। सिर्फ स्मार्टफोन के चला लेने से आप स्मार्टफोन हैकर या साइबर चोरों से नहीं बच सकते।

लिहाजा जान-पहचान के लोगों के ही कॉल का मैसेज का जवाब दें और किसी भी अनजाने लिंक पर मुफ्त की चाहत में क्लिक ना करें। लालच बुरी बला है। सावधान रहें, सतर्क रहें, सुरक्षित रहें।

Uttarakhand Goverment

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here